Sunday, October 3, 2010

ब्लॉग इन प्रिंट मीडिया...एक शानदार तोहफ़ा

ब्लॉग की दुनिया में श्री बी एस पाबला  का अहम मुक़ाम है...विन्रम और हर वक़्त दूसरों की मदद के लिए तैयार रहने वाले पाबला जी ने ब्लॉग इन प्रिंट मीडिया की सूरत में ब्लॉगरों को जो तोहफ़ा दिया है, उसकी जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है... ब्लॉग इन प्रिंट मीडिया के  ज़रिये ब्लॉगरों को यह मालूम हो जाता है कि देश के किन किन अख़बारों और पत्रिकाओं में उनके ब्लॉग छाए हुए हैं... सबसे ख़ास बात यह भी है कि ब्लॉग इन प्रिंट मीडिया अख़बारों और पत्रिकाओं की कतरें भी शामिल रहती हैं...
ब्लॉग इन प्रिंट मीडिया का ख़्याल कैसे आया? यह पूछने पर पाबला जी बताते हैं कि हिंदी ब्लॉगरों के जनमदिन एक स्थान पर पाये जाने वाली पोस्ट के बाद, एक दिन मुझे अपने ही ब्लॉग का जिक्र समाचार पत्र में किये जाने की खबर लगी। बताने वाला यह नहीं बता पाया कि समाचार-पत्र कौन सा था, लेकिन पोस्ट ज़रूर बता दी। उत्सुकता हुयी कि आखिर वह कहां छपी है और क्या लिखा गया है। हमने पता लगाना शुरू किया। 'विक्टोरिया नम्बर 203' जैसा बड़ी टेढ़ी खीर वाला लगा यह काम। चाबी (पोस्ट) थी, लेकिन ताला (समाचार पत्र) नहीं! फिर खबर लगी कि 'उसे' एक ऐसे न्यूज़ पेपर पर देखा गया है जिसका एक संस्करण हमारे क्षेत्र से भी निकलता है। हमने अंदाजा लगाया और तीर निशाने पर बैठा। हमने सोचा, पता नहीं ऐसे कितने ही ब्लॉगर होंगें, जिन्हें मालूम भी नहीं होता होगा कि उनकी किसी पोस्ट की, किसी समाचार पत्र या पत्रिका या ऐसे ही किसी प्रिंट मीडिया में तारीफ की गयी है, चर्चा की गयी है, उद्धृत किया गया है। पता चल भी जाये तो उसकी झलक पाने के लिए कितने ही पापड़ बेलने पड़ते होंगे। इस सोच का परिणाम यह निकला कि एक ब्लॉग बना डाला गया 'प्रिंट मीडिया पर ब्लॉग चर्चा'। अपने ब्लॉग पोस्ट की कतरन तलाशी में जितनी जानकारी मिली, सभी इस ब्लॉग में डालनी शुरू कर दी। अब समस्या यह आयी कि किस कतरन को पहले रखा जाये किसे पीछे। समाधान यह निकाला गया कि जिस तारीख की कतरन है, उसी तारीख पर संबंधित पोस्ट लिखी जाए, फिर भले ही वह दो-तीन साल पहले की हो। बड़ा समय खाऊ काम लगा। वैसे ही व्यस्तता रहती है। मैंने सोचा जब बना ही लिया है यह सूचनात्मक ब्लॉग, तो क्यों न इसमें उनको शामिल किया जाए जिनके ब्लॉग की चर्चा की गयी है या जिन्होंने उन ब्लॉग लेखकों को सूचना दी है उसके जिक्र की।

पाबला जी कहते हैं कि आप अभी तक ब्लॉगवाणी , चिट्ठाजगत, रफ़्तार, गुरुजी आदि ब्लॉग संकलकों के द्वारा विभिन्न ब्लॉगों तक जाते होंगे किन्तु इस प्रिंट मीडिया वाले ब्लॉग के वेबसाईट में ढल जाने पर, आप उन ब्लॉगों तक अपनी पहुँच आसान बना सकेंगे जिन्हें प्रिंट मीडिया, रेडियो, टेलीविज़न, वेब-पत्रिकाओं ने स्थान दे उनकी उपयोगिता सिद्ध की है। परिणामस्वरूप, हालिया परिदृष्य में, बेहतर हिन्दी ब्लॉगों की तलाश में संतुष्ट हुया जा सकेगा।

तो फिर देर किस बात की? आईए इस नए नवेले अनोखे ब्लॉग-एग्रीगेटर www.BlogsInMedia.com का स्वागत करें जो केवल संचार माध्यमों में उल्लेखित हिन्दी ब्लॉगों का संकलन करेगा। यह निश्चित तौर पर अविवादित भी होगा क्योंकि ब्लॉग लेखक व एग्रीगेटर के मध्य आकलनकर्ता के रूप में मीडिया के अन्य कारक भी शामिल होंगे।

हिंदी ब्लॉगरों के जन्मदिन  के जन्मदिन वाले ब्लॉग का ज़िक्र करते हुए पाबला जी कहते हैं कि 18 मार्च को अनिता कुमार जी के जनमदिन के पहले, 12 मार्च को लवली कुमारी का जनमदिन था। प्रशांत की एक पोस्ट के जरिये देर से पता चला। दिन भर किसी के भी द्वारा कोई शुभकामना संदेश न पाने की उनकी उदासी ने, मुझे कहीं छू लिया। ऐसे मौकों पर मुझमें बड़ा उत्साह रहता है। क्योंकि आजकल के सामाजिक परिवर्तन के दौर में, कम से कम, साल के एक दिन तो किसी को शुभकामनाये देने का मौका/ बहाना मिल पाता है। इसी उत्साह और लवली के शब्द पढ़ उन्हें, देर से ही सही लेकिन, बधाई देने का मन हो आया। आनन-फानन में उनके फोन नम्बर की माँग की, उनके परिचित ब्लॉगरों से, जो स्वाभाविक रूप से हिचकिचा गये। तुरंत हमने भी बातों का रूख बदल कर, अपनी लापरवाही का दिखावा किया और पोस्ट पर ही टिप्पणी के रूप में शुभकामनाये देने की सोची। टिप्पणी के समय इंटरनेट देव रूठ गये और बात आयी गयी हो गयी।


मन में यह ख्याल आया कि कई बार, हममें से कितने ही व्यक्ति चाहकर भी, समय पर या देर से, शुभकामनायें नहीं दे पाते होंगे क्योंकि उन्हें पता ही नहीं रहता। कोई ऐसा स्थान मेरी जानकारी में नहीं है, जहाँ एक साथ सभी हिंदी ब्लॉगरों का डाटा सार्वजनिक अवस्था में मिल जाये। हालांकि इंटरनेट पर बहुतेरी सोशल नेट्वर्किंग वेबसाईट्स हैं जिनमें आप अपना/ अपनों का, जनमदिन आदि का रिकॉर्ड रख सकते हैं। वहाँ समस्या यह है कि आपको अपने किसी अलग से यूज़र नेम और पासवर्ड से घुसना पड़ेगा। इसके अलावा व्यर्थ के डाटा भी आपको देने पड़ते हैं, ईमेल आईडी के व्यवसायिक दुरूपयोग की भी संभावना रहती है।

इसलिए मैंने स्वयं के लिए, गूगल की सहायता से, एक कैलेंडर बनाया है। जैसे-जैसे जानकारी मिलती जायेगी, उसमें डालता जाऊंगा। कम से कम इधर-उधर भटकने की ज़रूरत तो नहीं होगी। वह कैलेंडर सार्वजनिक है, इसलिए आप भी देख पायेंगे, अपनों हिंदी ब्लॉगरों की विभिन्न वर्षगांठों को।

यह कैलेंडर मूल रूप में मेरे ब्लॉग पर सबसे नीचे मौज़ूद है. लेकिन इसे सीधे http://janamdin.blogspot.com/ पर देखा जा सकता है। इसका निर्माण इस पोस्ट के लिखते-लिखते ही किया गया है, इसलिए किसी तरह की साज सज्जा नहीं हो पाई है, बाद में आप की प्रतिक्रिया के अनुसार इसे संवारा जाएगा। वह कहते हैं कि आप स्वयं की या किसी और हिंदी ब्लॉगर की जानकारी देना चाहें तो मेरे ईमेल पर भेज दें। ईमेल पता मेरे प्रोफाईल पर उपलब्ध है।

ब्लॉग जगत के लिए की जाने वाली इस निस्वार्थ सेवा के लिए पाबला जी को हार्दिक शुभकामनाएं...

6 Comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत अच्छा कार्य है यह।

हमारीवाणी.कॉम said...

हॉट सेक्शन अब केवल अधिक 'पढ़े गए' के आधार पर कार्य करेगा

ब्लॉग जगत में अच्छे लेखन को प्रोत्साहन की जगह केवल टिप्पणियों की चाह एवं गलत तरीकों से की गई टिप्पणियों के बढ़ते चलन की जगह अच्छी रचनाओं को प्रोत्साहन के प्रयास एवं रचनाओं को लोगों की पसंद के हिसाब से ही हॉट सेक्शन में लाने का प्रयास किया जा रहा है. हॉट सेक्शन के प्रारूप में बदलाव करते हुए अधिक टिप्पणियां वाला सेक्शन 'टिप्पणिया प्राप्त' हटा दिया गया है तथा अब यह सेक्शन 'पढ़े गए' के आधार पर कार्य करेगा.

अधिक पढने के लिए चटका (click) लगाएं:
हॉट सेक्शन अब केवल अधिक 'पढ़े गए' के आधार पर कार्य करेगा

शंकर फुलारा said...

वाकई ; पाबला जी कमाल के व्यक्ति हैं मुझे भी जब जरुरत पड़ी उन्हें ही याद किया और कभी निराश नहीं हुआ | इस अच्छी पोस्ट के लिए बधाई की पात्र आप भी हैं |

Archana said...

पाबला जी का कार्य वाकई उल्लेखनीय है ..आपकी इस पोस्ट के जरिये मै भी उन्हें बधाई देना चाहती हू.... नमन निस्वार्थ सेवा के लिए पाबला जी को
आभार आपका इस पोस्ट के लिए .....

aarya said...

अपना भी जन्मदिन बताएं क्या ?.......बहुत सुन्दर जानकारी बांटी है आपने |

Mahak said...

पाबला जी का कार्य वाकई उल्लेखनीय है ..आपकी इस पोस्ट के जरिये मै भी उन्हें बधाई देना चाहता हू.... नमन निस्वार्थ सेवा के लिए पाबला जी को
आभार आपका इस पोस्ट के लिए .....

Post a Comment